बिहार के मोकामा से बाहुबली विधायक (MLA) और 'छोटे सरकार' के नाम से चर्चित अनंत सिंह (Anant Singh) एक बार फिर से मुश्किलों में हैं. इस बार उनपर एके-47 (AK-47) और हैंड ग्रेनेड (Hand Grenade) जैसी खतरनाक चीजें रखने का आरोप लगा है. इस मामले में उनकी गिरफ्तारी (Arresting) भी तय मानी जा रही है.

UAPA की फांस

अनंत सिंह पर यूएपीए के तहत भी कार्रवाई होगी. निर्दलीय विधायक अगर यूएपीए के तहत दोषी पाए जाते हैं तो उन पर न केवल देशद्रोह का मुकदमा चलेगा, बल्कि उनका पॉलिटिकल करियर भी तबाह हो जाएगा. पंद्रह साल से मोकामा के विधायक चुने जा रहे अनंत इस कार्रवाई के बाद आजीवन चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे. एके-47 और हैंड ग्रेनेड जैसे हथियार मिलने के बाद इस केस की जांच में स्पेशल टास्क फोर्स के साथ ही एनआईए की टीम भी लगी हुई है.

इन मामलों में हुआ है केस

हथियार बरामदगी के बाद अनंत सिंह के खिलाफ आर्म्स एक्ट, गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) और विस्फोटक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है. अनंत के खिलाफ इस एक्ट के तहत कार्रवाई होना तय माना जा रहा है और अगर यह कार्रवाई होती है तो वो इस एक्ट के तहत कार्रवाई का शिकार होने वाले बिहार के पहले जनप्रतिनिधि होंगे.

परिवार पर भी हो सकती है कार्रवाई

यूं तो अनंत सिंह को हथियारों का पुराना शौकीन बताया जाता है, लेकिन उनके घर से एके-47 और हैंड ग्रेनेड मिलने से सुरक्षा एजेंसियों के भी होश उड़ गए हैं. पुलिस मुख्यालय पूरे मामले पर नजर बनाए हुए है. पटना पुलिस के सीनियर अधिकारी की मानें तो इस मामले में विधायक के साथ-साथ उनके परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी भी हो सकती है.

पुलिस की कार्रवाई पर भी उठ रहे सवाल

पुलिस की कार्रवाई में हो रही देरी ने भी कई सवाल खड़े कर दिए हैं. कहा जा रहा है कि पटना पुलिस ने अनंत को निकलने का पूरा मौका दिया और उनको पुलिस मुख्यालय में होने वाली हलचल की भी जानकारी मिल रही थी. पटना पुलिस ने जब अनंत सिंह के घर छापा मारा तो उनके एक शागिर्द को पुलिस ने उठाया जिसका नाम छोटू सिंह है. छोटू सिंह पर भी कई आरोप हैं.