भोपाल
मुख्यमंत्री कमल नाथ शुक्रवार 28 जून को केन्द्रीय पुलिस प्रशिक्षण अकादमी में 650 किलोवाट क्षमता के रूफटॉप सौर ऊर्जा संयंत्र का शिलान्यास करेंगे। इस संयंत्र से अकादमी को रु. 1.38 पैसे प्रति यूनिट की न्यूनतम दर पर बिजली मिलेगी। संयंत्र की स्थापना म.प्र. ऊर्जा विकास निगम के सहयोग से की गयी है।

मध्यप्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा को निरंतर बढ़ावा दिया जा रहा है। वर्तमान में करीब 4500 मेगावाट बिजली सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, बायोमास ऊर्जा और लघु जल विद्युत परियोजनाओं से पैदा की जा रही है, जो राज्य में पैदा की जा रही कुल बिजली का लगभग पांचवाँ हिस्सा है।

पिछले छ: माह में राज्य और केन्द्र सरकार के विभिन्न कार्यालय रेस्को मॉडल के माध्यम से सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करवाने के लिये आगे आये हैं। इनमें टेलीफोन एक्सचेंज, विमानतल आदि शामिल हैं। खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड में दो माह की रिकार्ड अवधि में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किया गया है। शासकीय चिकित्सा महाविद्यालयों में भी सौर ऊर्जा के उपयोग की पहल हुई है। इस संबंध में ऊर्जा विकास निगम द्वारा आवश्यक अनुबंध की कार्यवाही पूर्ण की जा चुकी है। भोपाल के वीआईपी रोड स्थित जल शोधन संयंत्र को सौर ऊर्जा से संचालित करने की तैयारी भी पूर्ण कर ली गयी है।