गुजरात पर समुद्री तूफान 'वायु' का खतरा मंडरा रहा है. अरब सागर में उठा तूफान 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरात के तट की ओर बढ़ रहा है. गुरुवार सुबह तक तूफान के पहुंचने की आशंका है. तूफान के असर को कम करने के लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी की है.कच्छ के कांदला बंदरगाह को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है. इसके साथ ही एनडीआरएफ की टीम बंदरगाह पर रहे लोगों और मछुआरों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही है. बता दें, एनडीआरएफ की 51 टीमें अलग-अलग जगहों पर तैनात की गई हैं. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह खुद राहत और बचाव कार्य की मॉनिटरिंग कर रहे हैं.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुजरात के तटवर्ती इलाकों में चक्रवाती तूफान आने की चेतावनी दी है. मौसम विभाग के अनुसार, अरब सागर से उठने वाला चक्रवाती तूफान वायु 75 किलोमीटर से लेकर अधिकतम 135 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार के साथ प्रदेश के कई इलाकों में चलेगा.

चक्रवाती तूफान 12-13 जून को सौराष्ट्र तट पर दस्तक दे सकता है. तूफान के कारण अहमदाबाद, गांधीनगर और राजकोट समेत तटवर्ती इलाके वेरावल, भुज और सूरत में हल्की बारिश हो सकती है. आईएमडी के अनुसार, 90-100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवा चलेगी और अरब सागर से लगत उत्तरपूर्वी इलाके में इसकी रफ्तार 115 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है.

मौसम विभाग ने कहा कि 12 जून को दक्षिण गुजरात और महाराष्ट्र के तटवर्ती इलाके में 50-60 किलोमीटर से लेकर 70 किलोमीटर की रफ्तार से हवा चलेगी और 13 जून को इसकी रफ्तार अरब सागर से सटे उत्तरी इलाके में 110-120 किलोमीटर से लेकर 135 किलोमीटर हो जाएगी.