नई दिल्ली । जापान ने कुछ इलेक्ट्रानिक सामानों पर आयात शुल्क बढ़ाए जाने के मामले में भारत को विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में घसीटा है। वैश्विक व्यापार संस्था ने यह जानकारी दी है। डब्ल्यूटीओ ने कहा है कि जापान ने कुछ इलेक्ट्रानिक सामानों पर लगातार सुनियोजित तरीके से आयात शुल्क में वृद्धि करने पर भारत की आलोचना की है। सितंबर 2014 में मेक इन इंडिया की घोषणा के बाद से भारत यह कदम उठाता आ रहा है। जापान का आरोप है कि यह आयात शुल्क दरें तय दायरे से भी ऊपर निकल गई हैं। कोई भी डब्ल्यूटीओ सदस्य निर्धारित उच्चतम दर से ऊपर शुल्क नहीं लगा सकता है। जापान ने इस मामले में डब्ल्यूटीओ की विवाद निपटान प्रणाली के तहत विचार विमर्श की मांग की है। जापान ने डब्ल्यूटीओ को भेजे संदेश में कहा है कि सितंबर 2014 में मेक इन इंडिया की घोषणा के बाद से भारत लगातार सुनियोजित तरीक से विभिन्न क्षेत्रों के उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ाया है। जापान ने भारत पर इलेक्ट्रानिक प्रणाली, खनन, आटोमोबाइल्स, अक्षय ऊर्जा, रक्षा विनिर्माण, खाद्य, प्रसंस्करण, आटोमोबाइल कलपुर्जे और कपड़ा तथा सिले सिलाए कपड़े सहित कई उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने का आरोप लगाया है।